Khandadhar Waterfalls | खंडाधार जलप्रपात – सुंदरगढ़ यात्रा गाइड

Khandadhar Waterfalls | खंडाधार जलप्रपात – सुंदरगढ़ यात्रा गाइड उड़ीसा के सुंदरगढ़ जिले के नंदपानी बोनाईगढ़ क्षेत्र के अंतर्गत खंडधार जलप्रपात Khandadhar Waterfalls  एक लोकप्रिय एवं आकर्षण पिकनिक स्थल है जो बारोमासी बहने वाली एक जलप्रपात है जो लगभग 244 मीटर की ऊंचाई से गिरता है और यह भारत का 12 सबसे ऊंचा जलप्रपात है, यहां पर आसपास के इलाका पाठ का क्षेत्र है और यहां पर लोह अयस्क मैंगनीज जैसे खदान है

जिससे अयस्क निकाला जाता है और इसका निर्यात कर और लोहा और मैग्नीशियम तैयार किया जाता है झरना या जलप्रपात उड़ीसा के अन्य आकर्षण में से एक है और सुंदरगढ़ जिला मुख्यालय से इसकी दूरी महज 56 किलोमीटर के आसपास से जो कुचिंडा बोनाईगढ़ रोड पर स्थित है घने जंगलों और आसपास के झाड़ीदार पेड़ पौधे  और चमकदार झरने के कारण इस जलप्रपात की सुंदरता और अधिक देखने लायक हो जाती है इसे देखने के लिए लोग दूरदराज से आते हैं

और यह 12 मासिक वॉटरफॉल को visit करते हैं, खंडार जलप्रपात Khandadhar Waterfalls  में आने के लिए आपको व्यक्तिगत गाड़ी बाइक या बस का उपयोग कर सकते हैं परंतु यदि आप रेल से आते हैं तो आपको राउरकेला स्टेशन पर उतरना होगा और वहां से फिर आपको बस या व्यक्तिगत गाड़ी से आना होगा राउरकेला का दूरी लगभग 104 किलोमीटर के आसपास है जो सुंदरगढ़ से पड़ता है

खंडधार जलप्रपात Khandadhar Waterfalls  आने का सबसे अच्छा समय जी हां दोस्तों इस जलप्रपात में आने का सबसे अच्छा समय बरसात के बाद का माना जाता है अक्टूबर से लेकर फरवरी तक आप इस जलप्रपात में आ सकते हैं एवं मनमोहन प्राकृतिक दृश्य का आनंद उठा सकते हैं इस जगह आप ट्रैकिंग ऑफ रोडिंग तुम चढ़ाई उतराई का मजा ले सकते हैं क्योंकि जवाब इस जलप्रपात पर आते हैं तो 2 किलोमीटर तक आपको पैदल आना पड़ता है उसके बाद ही इस मनमोहन दृश्य का दीदार सकते हैं ।

पर्यटन विभाग की ओर से की गई है व्यवस्था

लगभग सभी पर्यटन क्षेत्र के आसपास आजकल टूरिस्ट को ठहरने उनके गाड़ी को पार्किंग करने एवं छोटे-मोटे दुकानदार एवं सुरक्षा शौचालय जैसे सुविधाओं का निर्माण विभाग के द्वारा कराया गया है साथिया स्थानीय लोग के द्वारा भी छोटे-मोटे दुकान स्टॉल लगाया जाता है जिनमें से आर्डर पर खाना बनाया जाता है और पर्यटकों के लिए सुविधाएं दी जाती है साथ ही उनसे बनाने का खर्च लिया जाता है

कोरापानी नाला से बहता है यह खंडधार जलप्रपात

घने जंगलों को बीचो-बीच होते हुए खंडधार जलप्रपात जो जंगलों के बीच से कोरापानी नाला नामक बारहमासी नदी होते हुए खंडधार जलप्रपात का निर्माण करता है जो 244 मीटर ऊंचाई से गिरता है जब आप इस जलप्रपात पर आते हैं तो आपको रास्ते में ही कोरापानी नाला बहते हुए दिखाई देता है उस नाला को पार करते हुए आप इस जलप्रपात तक पहुंचते हैं खंडाधार जलप्रपात नाम क्यों पड़ा लगभग 500 फीट ऊंचाई से खड़े गिरने की वजह से उसे जगह का नाम खंडाधार रखा गया

कैसे पहुंचे खंडाधार जलप्रपात Khandadhar Waterfall

  • यदि आप हवाई जहाज के रास्ते आना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा बिरसा मुंडा हवाई अड्डा रांची में उतरना होगा उसके बाद वहां से आप बस व्यक्तिगत गाड़ी रिजर्व कर आप सीधे राउरकेला के रास्ते सुंदरगढ़ होते हुए खंडहर जलप्रपात तक आ सकते हैं
  • यदि रेल के द्वारा इस जगह पर आना चाहते हैं तो आपके नजदीकी रेलवे स्टेशन राउरकेला रेलवे स्टेशन में उतरना होगा वहां से आपको बस या व्यक्तिगत गाड़ी से सुंदरगढ़ होते हुए इस स्थान तक आप आसानी से आ सकते हैं
  • यदि आप खुद के व्यक्तिगत गाड़ी बस बाइक की मदद से इस जगह पर आते हैं तो आपको सीधे इस स्थान तक पहुंच सकते हैं परंतु वाटरफॉल पहुंचने के 2 किलोमीटर तक आपको पैदल चलना होगा क्योंकि रास्ते में बहुत ही ऑफ रोडिंग है और वहां पर गाड़ी नहीं आ सकती है

इसे भी पढ़े –हिरनी जलप्रपात jharkahnd 

इतिहास के अनुसार pouri भैया नामक आदिवासी जाति के लोगों नेKhandadhar के आसपास के स्थान का पता लगाया था लेकिन अब खनन कार्य के चलते इस झरने की सुंदरता में काफी अधिक बदलाव उतार-चढ़ाव देखने को मिल रही है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top