swarnrekha nadi kahan hai | स्वर्णरेखा नदी कहां से निकलती है

swarnrekha nadi kahan hai झारखड़ में एक ऐसा नदी है जहां सोना निकलता है जी हम बात करें दक्षिण छोटानागपुर के पठारी भाग स्थित झारखंड की राजधानी रांची से 16 किलोमीटर की दूर नगड़ी स्थित एक गांव के पास एक कुआं से नदी की धार से पानी बहते हुए पूरब की दिशा में खरसावां सराय किला जिला से गुजरते हुए पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर से होते हुए यह उड़ीसा बालासर में जाकर बहती है कहा जाता है

कि इस नदी से सोने प्राप्त किया जाता है जिसे लोग अपने आजिविका का साधन अपना कर भरन पोषण भी करते हैं कुछ लोगों का कहना है कि यहां रेत में सोने के कण पाए जाते हैं इस वजह से इस नदी को स्वर्ण रेखा नदी नाम कहते है और अधिक से गहराई जाने के लिए जब हमने इसका पता लगाया तो पता चला कि संरक्खा नदी सहायक नदी करकेरी नदी है जहां पर सोने के कण पाए जाते हैं इस वजह से हो सकता है कि स्वर्ण रेखा के नदी के रेत में स्वर्ण का कण पाया जाता होगा है

Swarnrekha nadi स्वर्णरेखा नदी इतिहास  | स्वर्ण रेखा नदी के बारे में रोचक तथ्य क्या हैं

स्वर्णरेखा नदी के इतिहास की बात करें तो स्वर्ण रेखा नदी के बारे में रोचक तथ्य तो बता दे की इसकी इतिहास महाभारत काल से किया जाता है कहा जाता है कि महाभारत काल में अज्ञातवास के दौरान जब पांडव इस जगह से जा रहे थे तो उसमें द्रोपती को प्यास लगी थी तो उसी समय अर्जुन ने जमीन में बाण मारकर कुंवा नुमा गढ़ा किया और उससे पानी निकलने लगा इसी तर्ज पर इस नदी का उदगम इसी कुंवा नामक से बहते हुए लगातार अभी तक बह रही है

चांडिल डैम स्वर्णरेखा नदी swarnrekha nadi पर बनाई गई है चांडिल पर्यटन

झारखंड के साथ-साथ बंगाल और उड़ीसा में बहने के कारण स्वर्णखा नदी झारखंड की बड़ी नदियों में से एक है और यह नगरी गांव में स्थित एक चूवा नमक गड्ढे से निकलकर बहती है इस नदी की कुल लंबाई की बात करें तो लगभग 474 किलोमीटर है जो कि बंगाल में बंगाल की खाड़ी में जाकर गिरती है स्वर्णरेखानदी के पानी को जमा कर चांडिल डैम बनाया गया है चांडिल डैम पर्यटन के लिहाज से बहुत ही देखे जाने वाले पर्यटन में से एक है जहां पर पर्यटक हर समय इस डैम का नजारा देखने के लिए इस जगह आया करते हैं और यह झारखंड के सरायकेला खरसावां में जिला में पड़ता है

स्वर्णरेखा नदी कहां से निकलती है |swarnrekha nadi kahan hai

स्वर्णरेखा नदी की खास बात है कि इसे सोने की नदी भी कहा जाता है लोग इस नदी के रेत/बालू को छान-छान कर अलग करते हैं और उससे छोटे-छोटे कण में सोने निकाला जाता है और उस सोने को निकाल कर बेचते हैं और उससे पैसे कमाते हैं

स्वर्णरेखा नदी swarnrekha nadi  के किनारे बसे शहर

पश्चिम से पूर्व की ओर टेढ़े-मढ़ी आकार से बहते हुए स्वर्णरेखा नदी झारखंड कई शहर होते हुए बहती है जो झारखंड की काफी विकसित शहर में से एक है जैसे ,रांची,जमशेदपुर, घाटशिला,आदि साथ ही और अधिक details के लिए आप  subarnarekha nadi  के बारे  google मैप में सर्च करें subarnarekha river map

स्वर्णरेखा नदी  Gold River of India क्या झारखंड की स्वर्णरेखा नदी में बहता है …

किन-किन राज्यों से होकर गुजरती है

स्वर्णरेखा नदी राज्य के कई शहरो से गुजरने के साथ साथ कई राज्य से गुजरता है लोग google से सवाल करते हैं स्वर्णरेखा नदी किस राज्य में है और कोन कोन राज्यों से होकर बहती है तो यह झारखंड,बंगाल, उड़ीसा आदि राज्य से होते हुए सीधे पश्चिम बंगाल के खाड़ी में गिरती है । यह नदी किसी अन्य नदी में नही मिलती बल्कि सीधे बंगाल की खाड़ी में जा गिरती है।

संक्षेप:_इस लेख में अपने स्वर्णरेखा नदी के बारे में जाना जो कि झारखंड के रांची में स्थित नगरी गांव के पास इसका उद्गम स्थल है आशा करता हूं कि आर्टिकल्स में आपको स्वर्ण रेखा नदी के बारे में जानने को मिला होगा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top